head छत्तीसगढ़ परिवहन के साधन सामान्य ज्ञान | CG Transport gk

छत्तीसगढ़ परिवहन के साधन सामान्य ज्ञान | CG Transport gk

Chhattisgarh Parivahan 2021-22 GK | CGPSC AND VYAPAM GK IN Hindi |

छत्तीसगढ़ परिवहन सामान्य ज्ञान

छत्तीसगढ़ में परिवहन के साधनों का विकास हुआ है किन्तु अन्य राज्यों की तुलना में इसकी गति अत्यन्त धीमी है। प्रदेश के सभी प्रमुख नगर और औद्योगिक क्षेत्र सड़क एवं वायुमार्ग से जुड़े हैं। बस्तर में ऐसे विस्तृत क्षेत्र है जहाँ पक्की सड़कों एवं रेलमार्ग का नितान्त अभाव है। अभी भी राज्य के कुछ विकासखण्डों के मुख्यालय सड़कों से दूर हैं। अभी भी राज्य की अनेक गाँव सभी मौसम में कार्य करने वाली सड़कों से नहीं जड पाए हैं। राज्य में सडक निर्माण हेत कच्ची सामग्रियाँ पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। केवल उचित क्रियान्वयन की आवश्यकता है। राज्य में रेलमार्ग का जाल भी अत्यन्त सीमित है। बस्तर, सरगुजा आदि क्षेत्रों में एकमात्र यातायात का साधन सड़कें हैं। साथ ही राज्य में कई नगरों को जोड़ने वाले रेलमार्ग बहुत लम्बे हैं जिस क कारण और धन दोनों की बर्बादी होती है। राज्य में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का कोई भी हवाई अड्डा नहीं है।

छत्तीसगढ़ का सम्पूर्ण सामान्य ज्ञान Cg Mcq Question Answer in Hindi: Click Now

छत्तीसगढ़ में चार प्रकार के परिवहन के साधनों का विकास हुआ है। ये हैं : सड़क परिवहन, रेल परिवहन, वायु परिवहन एवं जल परिवहन।

छत्तीसगढ़ में परिवहन से सम्बन्धित महत्वपूर्ण सवाल जवाब CLICK HARE

  1. सड़क परिवहन (Road Transport) : सड़कें छत्तीसगढ़ प्रदेश की जीवन रेखा हैं। राज्य में सड़कों की कुल लम्बाई 36,388 किमी. है जिसमें राष्ट्रीय राजमार्ग की लम्बाई 2289 किमी. प्रान्तीय राजमार्ग की लम्बाई 3213 किमी., जिला सड़कों की लम्बाई 2118 किमी. तथा ग्रामीण सड़कों की लम्बाई 28768 किमी. है।

राज्य में राष्ट्रीय राजमार्गों के रखरखाव एवं देखभाल के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग मंडल, रायपर की स्थापना दिसम्बर 1972 में की गई। इस मंडल के अधीन रायपुर एवं जगदलपुर में संभागीय कार्यालय है। राज्य में सुगम एवं द्रुतगामी यातायात हेतु कुल 3,106.75 किमी. लम्बे दो उत्तर-दक्षिण तथा चार पूर्व-पश्चिम कोरिडोर का निर्माण कार्य जारी है। राज्य में उड़ीसा, महाराष्ट्र, आन्ध्र प्रदेश, झारखंड, उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश तक अन्तर्राज्यीय बस सेवाएँ संचालित होती हैं। राज्य में बायो डीजल के उपयोग को बढ़ावा दिया जा रहा है जिसके तहत रतनजोट (जेट्रोफा) की खेती विस्तृत भू-भाग पर की जा रही है। छत्तीसगढ़ राज्य परिवहन निगम को बन्द करने वाला देश का पहला राज्य है।

छत्तीसगढ़ में परिवहन से सम्बन्धित महत्वपूर्ण तथ्य पढने के लिए CLICK HARE

राज्य से होकर गुजरने वाले प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्ग निम्नलिखित हैं

(a) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-06 : प्रदेश में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लम्बाई 314 किमी. है । यह मार्ग मुम्बई-नागपुर से राजनांदगाँव, भिलाई, रायपुर, बसना, सरायपाली होते हुए कोलकाता तक जाता है। (नया नाम-NH-53)

(b) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-16 : प्रदेश में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लम्बाई 210 किमी. है। यह राजमार्ग प्रदेश के जगदलपुर, गीदम, बीजापुर, भोपालपट्टनम से होता हुआ चंद्रपुर (महाराष्ट्र) को जाता है। (नया नाम-NH-63)

(c) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-43 : प्रदेश में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लम्बाई 316 किमी. है। यह राजमार्ग रायपुर से धमतरी, कांकेर, कोंडागाँव, जगदलपुर होते हुए विशाखापट्टनम तक जाता है। (नया नाम—NH-30)

(d) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-12A : प्रदेश में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लम्बाई 128 किमी. है। यह राजमार्ग सिमगा, मंडला, चिल्की, कवर्धा व बेमेतरा होता हुआ जबलपुर तक जाता है। (नया नाम-NH-30)

(e) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-216 : प्रदेश में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लम्बाई 80 किमी. है। यह सरायपाली, सारंगढ़ होता हुआ रायगढ़ तक जाता है। (नया नामNH-153)

(6) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-217 : प्रदेश में इस राष्ट्रीय राजमार्ग की कुल लम्बाई 70 किमी. है। यह राजमार्ग रायपुर, महासमुंद, बागबाहरा, खरिकार रोड होता हुआ गोपालपुर (उड़ीसा) तक जाता है। (नया नाम-NH-353) वा

(g) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-221 : यह राष्ट्रीय राजमार्ग जगदलपुर, कोंटा होता हुआ विजयवाड़ा (आन्ध्र प्रदेश) तक जाता है। इसकी कुल लम्बाई 174 किमी. है।

  1. h) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-211: यह राष्ट्रीय राजमार्ग बिलासपर. कटघोरा होता हुआ अम्बिकापुर तक जाता है । इसकी कुल लम्बाई 200 किमी. है। (नया नाम-NH-130)

(i) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-200: यह राष्ट्रीय राजमार्ग रायपुर, बिलासपुर, रायगढ़ होता हुआ उड़ीसा में चांदीखोल तक जाता है। इसकी राज्य में कुल लम्बाई 300 किमी. है। (नया नाम-NH-49)

5) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-78 : यह राष्ट्रीय राजमार्ग मनेन्द्रगढ़, बैकुण्ठपुर, सूरजपुर, अम्बिकापुर, कुनकुरी, पत्थल गांव से होता हुआ झारखंड राज्य की सीमा तक जाता है। इसकी कुल लम्बाई 356 किमी० है। (नया नाम-NH-43)

(k) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-202 : यह राष्ट्रीय राजमार्ग भोपालपट्टनम, भद्रकाली एवं कुटरू होता हुआ उत्तर प्रदेश की सीमा तक जाता है। इसकी कुल लम्बाई 36 किमी० है।

(1) राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-343 : यह राष्ट्रीय राजमार्ग अम्बिकापुर, समरसेट, रामानुजगंज होता हुआ झारखंड के गढ़वा तक जाता है। प्रदेश में इसकी कुल लम्बाई 105 किमी है।

नोट : राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 43 तथा राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 12A को मिलाकर संयुक्त राष्ट्रीय राजमार्ग NH-30 बनाया गया है। – इस प्रकार राज्य में कुल 11 राष्ट्रीय राजमार्ग हैं।

 

  1.     रेल परिवहन (Rail Transport) : छत्तीसगढ़ में रेल परिवहन की शुरुआत 27 नवम्बर, 1888 को हुई जहाँ प्रथम बार रेल नागपुर एवं राजनांदगाँव के मध्य चली। इसके पश्चात क्रमशः रायपुर, बिलासपुर तथा रायगढ़ मुम्बई-कोलकाता रेलमार्ग से जुड़े। छत्तीसगढ़ में रेलमार्ग की कुल लम्बाई 1300 किमी. है। छत्तीसगढ़ में रेलमार्ग मुख्यतः बिलासपुर रेलवे जोन में आता है। बिलासपुर दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे का मुख्यालय है जो भारत का 16वाँ रेलवे जोन है। बिलासपुर, रायपुर एवं दुर्ग राज्य के प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं। यहाँ सभी स्टेशनों में कम्प्यूटरीकृत आरक्षण सुविधा उपलब्ध है। एक दृष्टि से देखा जाए तो रेलवे छत्तीसगढ़ के लिए जीवन रेखा है। यहाँ रेल परिवहन राज्य के विकास की आधारशिला के रूप में परिलक्षित हो रही है।

राज्य से होकर गुजरने वाली प्रमुख रेलगाड़ियाँ

क्र. गाड़ी का नाम कहाँ-से-कहाँ तक

  1. अमरकंटक एक्सप्रेस
  2. छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस बिलासपुर-अमृतसर
  3. महानदी एक्सप्रेस बिलासपुर-भोपाल
  4. बिलासपुर-कोच्चि एक्सप्रेस बिलासपुर-नागपुर-चेनन्ई-सोरानूर-कोच्चि-त्रिवेन्द्रम
  5. निजामुद्दीन-नागपुर एक्सप्रेस निजामुद्दीन-नागपुर-बिलासपुर
  6. गोंडवाना एक्सप्रेस निजामुद्दीन-बिलासपुर
  7. लिंक एक्सप्रेस कोरबा-बिलासपुर-रायपुर-विशाखापट्टनम
  8. नर्मदा एक्सप्रेस बिलासपुर-इन्दौर
  9. सारनाथ एक्सप्रेस दुर्ग-छपरा
  10. राजधानी एक्सप्रेस नई दिल्ली-रायपुर-बिलासपुर
  11.   वायु परिवहन (Air Transport) : छत्तीसगढ़ राज्य वायु परिवहन की दृष्टि से काफी पिछड़ा राज्य है। राज्य में कोई अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा नहीं है। किन्तु देश के महत्वपूर्ण नगरों को जोड़ने वाले वायु मार्ग हैं। भोपाल से रायपुर के लिए भी वायु मार्ग खुल गया है। वर्तमान में राज्य में कुल 9 विमान तल है, लेकिन साधन व सुविधा से परिपूर्ण विमान तल रायपुर का ‘माना विमान तल’ ही उड़ानों की दृष्टि से सुविधा सम्पन्न है। यहाँ से वर्तमान में दिल्ली, नागपुर एवं भुवनेश्वर के लिए सप्ताह में 6 दिन एवं मुम्बई के लिए सप्ताह में तीन दिन की वायु सेवा उपलब्ध है। राज्य के 9 विमान तल भिलाई, रायपुर, बिलासपुर, अम्बिकापुर, जशपुर, कोरबा, रायगढ़, सारंगगढ़ एवं जगदलपुर में स्थित हैं। इन 9 विमान तलों में से 3 राष्ट्रीय विमानपत्तन के आधिपत्य में, 4 लोक निर्माण विभाग के अधीन, 1 म० प्र० विद्युत मंडल के आधिपत्य में है। रायपुर, भिलाई, बिलासपुर एवं जगदलपुर की हवाई पट्टियाँ सभी मौसम में उपयोगी है जबकि अम्बिकापुर, जशपुर, कोरबा, रायगढ़ एवं सारंगगढ़ की हवाई पट्टियाँ केवल साफ मौसम में ही उपयोगी है।

 

  1.   जल परिवहन (Water Transport) : छत्तीसगढ़ का एकमात्र जलमार्ग सेवा दन्तेवाड़ा जिले में बहने वाली सबरी नदी में संचालित है। इस नदी के तट पर कोंटा बंदरगाह स्थित है। इस बंदरगाह से आन्ध्र प्रदेश के ‘कुनावरमव’ राजमुन्दरी बंदरगाहों तक जल परिवहन की सुविधा उपलब्ध है।

छत्तीसगढ़ वस्तुनिष्ठ प्रश्न देखने के लिए क्लिक करे इस पर

Leave a Comment